होम 2022

वार्षिक आर्काइव: 2022

लंका दहन | Lanka Dahan Par Kavita

लंका दहन ( Lanka Dahan )   जामवंत ने याद दिलाया हनुमत सब बल बुद्धि समाया। सौ योजन सिंधु कर पारा रामभक्त है बजरंग अवतारा।   सीता माता की सुधि...

लक्ष्मण मूर्छा शक्ति बाण | lakshman murcha shakti baan

लक्ष्मण मूर्छा शक्ति बाण ( lakshman murcha shakti baan ) आलेख   रावण का पुत्र मेघनाथ जिसमें इन्द्र तक को जीत लिया था। वह इंद्रजीत कहलाता था। उसकी...

मां को शीश नवाते हैं | Kavita maa ko shish navate...

मां को शीश नवाते हैं ( Maa ko shish navate hain )   जिस मिट्टी की मूरति को, गढ़ गढ़ हमी बनाते हैं   शाम सुबह भूखे प्यासे, उसको शीश झुकाते...

जोत जले मां | Kavita Jyot Jale Maa

जोत जले मां ( Jyot Jale Maa )   सजा दरबार निराला जोत जले मां अंबे ज्वाला। सबके दुखड़े हरने वाली कर सोहे मां चक्र भाला। कालरात्रि तू महागौरी...

तितली बन उड़ जाऊं | Kavita titli ban ud jau

तितली बन उड़ जाऊं ( Titli ban ud jau )   नीले अंबर खुले आसमां तितली बन उड़ जाऊं। सारी दुनिया घूम के देखूं महकूं और मुस्काउं।   डगर...

विद्युत प्रभा नामित हुई हृदयांगन की राष्ट्रीय अध्यक्ष | डा0 अलका...

हृदयांगन साहित्यिक सामाजिक सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक संस्था (पंजीकृत) मुंबई एक राष्ट्रीय संस्था हैं ।अभी इस संस्था में नये संरक्षक मंडल तथा कार्यकारिणी का चयन...

राम सुग्रीव मिताई | Poem Rama Sugriva

राम सुग्रीव मिताई ( Ram Sugriva Mitai )   सीता माता की सुधि लेने चल पड़े राम लक्ष्मण भाई। शबरी के मीठे मीठे बेर खाए चब चख श्री...

स्कंदमाता | माहिया छंद

स्कंदमाता ( Skandmata )   स्कंदमाता कल्याणी पर्वत निवासिनी रक्षा करें दुर्गा मां   गूंजता दरबार मां जयकार हो रही जले अखंड ज्योत मां   यश वैभवदात्री दो वरदान भवानी सुनो महागौरी मां   जय माता जगदंबे मां शेरावाली आओ दानव...

गूंजता दरबार मां का आज जय जयकारों से | Geet gunjata...

गूंजता दरबार मां का आज जय जयकारों से ( Gunjata darbar maa ka aaj jay jayakaaron se )   है गूंजता दरबार मां का, आज जय जयकारों...

दुर्गा माता रानी तू ही भवानी | Durga mata par kavita

दुर्गा माता रानी तू ही भवानी (Durga mata rani tu hi bhawani)   आदिशक्ति हे मां काली, ढाल खड्ग खप्पर वाली। सिंह सवार मां जगदंबे, दुखड़े दूर करने...