जीत
जीत

जीत

( Jeet )

 

जीत सको तो दिल जीतो जग के प्यारे हो जाओगे
प्यार के मोती लुटा जगत में प्रेम रतन धन पाओगे

 

जीवन संघर्ष महासमर में हिम्मत हौसला धीर धरो
कर्म पथ पर वीर योद्धा बढ़ पराक्रमी संधान करो

 

अटल इरादे सही सोचे रणनीति तय करनी होगी
चूक जरा सी होगी तो खामियां भी भरनी होगी

 

सत्य सदा विजयी होता झूठ हमेशा हार जाता
सच्चाई के पथ चलने वाला मंजिलों को पा जाता

 

रणनीति राजनीति में शह मात सिखाई जाती है
बड़े-बड़े प्रलोभन और चकाचौंध दिखाई जाती है

 

जीवन के अनुभव ही असली युद्ध सिखलाते हैं
फौलादी सीना जिनका रणधीर जीत वो जाते हैं

?

कवि : रमाकांत सोनी

नवलगढ़ जिला झुंझुनू

( राजस्थान )

यह भी पढ़ें :-

बंधु अपने दिल की सुन | Geet

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here