होम ब्लॉग पेज 255

सवाल है | Nazm in Hindi

सवाल है  (  Swaal hai )   यार से हुई निस्बत-ए-ख़ास गुफ्तगू, सवाल है हम पे करम-ए-मेहरबान-ए-जुस्तुजू, सवाल है   खुद से चलो कोई ऐसा तो सवाल है, कमाल है जिस...

और कितना गिरेगा तू मानव | Mannav kavita

और कितना गिरेगा तू मानव ? *****   और कितना गिरेगा तू मानव? दिन ब दिन बनते जा रहा है दानव। कभी राम कृष्ण ने जहां किया था दानवों...

गणपति बप्पा | Ganpati bappa kavita

गणपति बप्पा ( Ganpati bappa kavita )   मुश्क की सवारी, मोदक देख मुँह मे उनके लाल है। ज्ञान का रूप, असुरो के काल हैं। एक दंत, महाकाय रूप मनमोहक उनकी चाल हैं देह...

दिल का हाल बताएगी सेल्फी | Selfie par kavita

दिल का हाल बताएगी सेल्फी ***** दिल के मरीजों के लिए है खुशखबरी, दिल का हाल बताएगी अब सेल्फी । अभी दुनिया में 31% मौतें हृदय रोगों से...

ढूंढता हूं रास्ता | Dhoondhata hoon raasta | Ghazal

 ढूंढता हूं रास्ता ! ( Dhoondhata hoon raasta )   मैं वफ़ा का रोज ही वो ढूंढ़ता हूं रास्ता! रात दिन दिल में ही ऐसा सोचता हूं रास्ता   रास्ता...

आम आदमी की किस्मत | Aam aadmi par kavita

आम आदमी की किस्मत ! ***** ( Aam Aadmi Ki Kismat )   आम आदमी पिस रहा है, सड़कों पर जूते घिस रहा है। मारा मारा फिरता है इधर से...

प्यार के टूटे किनारे आज फ़िर | Pyar ghazal

प्यार के टूटे किनारे आज फ़िर ( Pyar ke tute kinare aaj phir )   पड़ गयी दिल में दरारें आज फ़िर प्यार के टूटे किनारे आज फ़िर   बट...

आत्मनिर्भर भारत | Aatmanirbhar Bharat Par Kavita

आत्मनिर्भर भारत! ( Aatmanirbhar Bharat ) ***** भारत के लोग अब, सचमुच आत्मनिर्भर हो गए हैं, अपार कष्ट सहकर भी- सरकारों से छोड़ दिए हैं आशा, मन में उपजी है उनकी...

खेलते थे गांव में कंचे बहुत | Bachpan par shayari

खेलते थे गांव में कंचे बहुत ( Khelte the gaon mein kanche bahot )   खेलते थे गांव में गुल्ली डंडा कंचे बहुत शहर में नफ़रत मिली है...

कतर ने थामा लीबिया का हाथ | Kavita

कतर ने थामा लीबिया का हाथ ! ******* 2011 में मुअम्मर गद्दाफी को किया गया पदच्युत, तभी से वहां शुरू है गृहयुद्ध । वर्षों से गृहयुद्ध में उलझे...