Nawalgarh ke sahityakar kavi Ramakant Soni
Nawalgarh ke sahityakar kavi Ramakant Soni

जिज्ञासा प्रकाशन गाजियाबाद से प्रकाशित काव्य कृति काव्य के स्वर्णिम अक्षर का नवलगढ़ के साहित्यकार कवि रमाकांत सोनी पुस्तक का शीघ्र ही विमोचन करेंगे। शुभचिंतकों व मित्रों ने हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी।

कवि रमाकांत सोनी वीर रस, देश भक्ति गीत, दोहा, छंद, मुक्तक आदि विधाओं में लेखन करते हैं।वे राष्ट्रीय साहित्यिक मंच शब्दाक्षर में जिला अध्यक्ष झुंझुनू, हिंद देश परिवार दिल्ली इकाई में उपाध्यक्ष, लोक संस्कृति मंच में जिला महामंत्री के रूप में साहित्यिक सेवाएं दे रहे हैं।

उनकी अनेक साझा संकलनों में रचनाएं प्रकाशित हुई है आकाशवाणी जयपुर से राजस्थानी भाषा में प्रसारण 2 जूलाई 2021 को तथा 17 मई 2022 को काव्य पाठ कर चुके हैं। इनकी ई बुक बुलंद हौसले अभिव्यक्ति प्रकाशन द्वारा गुगल पर प्रकाशित हुई है।

काव्य के स्वर्णिम अक्षर पुस्तक में कवि ने विभिन्न विधाओं में लेखनी को उकेरा है। सामाजिक सरोकारों से लेकर हास्य-व्यंग्य छंद मुक्तक दोहा गीत गजल आदि विभिन्न शैलियों में रचनाएं रचकर कवि ने एक गुलदस्ता तैयार किया है जो पाठकों को जरूर पसंद आएगा।

 

कवि परिचय

नवल धरा नवलगढ़ पावन
शहर जिला झुंझुनू धाम
शौर्य पराक्रम ओज भरा
सकल जगत सरनाम

 

गणपति का बाजार है
घर नानसागेट के पास
लोक देव बाबा रामदेव
जहां पूजे जाते हैं खास

 

वीर रस रचना करे
व्यंग्य की पैनी धार
खुशबू फैलाये प्रेम की
कहे अनुभवों का सार

 

श्याम सुन्दर पिता भये
सभ्य स्वर्णकार परिवार
माता कलावती ने दिया
सुशिक्षा सनेह संस्कार

 

जिला झुंझुनू में लगता
राणीसती का दरबार
मरूभूमि राजस्थान में
कवि रमाकांत घर बार

 

खुशबू बिटिया लाडली
जीवनसाथी रेखा नारी
मधु वाणी शुभ कर्म से
महकाती केसर क्यारी

 

शिक्षा संस्कार मिले तो
सेवा की राह बनाई है
रहे सब स्वस्थ निरोगी
काव्य सरिता बहाई है

 

यह भी पढ़ें :- 

दिल की महफिल सजाए बैठे हैं | Dil ki mehfil sajaye baithe hain

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here