Home Authors Posts by sahit1122

sahit1122

727 POSTS 1 COMMENTS

ढ़ल रही धूप है सूरज की देखिए

ढ़ल रही धूप है सूरज की देखिए     ढ़ल रही धूप है  सूरज की देखिए!  है उछल कूद ये  आदमी देखिए   भा गयी है आंखों को सूरज की...

वक्त रुका ही नहीं कभी किसी के लिए

वक्त रुका ही नहीं कभी किसी के लिए     ऊंचे नीचे पथरीले रास्ते का प्रारब्ध सफर कारवां गुजर जाने के बाद धुंधला दिखा   जीवन का बहुमूल्य अंश बीत...

हरे है ज़ख़्म अब तक भी दिलों पे दाग़ है बाकी

हरे है ज़ख़्म अब तक भी दिलों पे दाग़ है बाकी     हरे है ज़ख़्म अब तक भी दिलों पे दाग़ है बाकी। धुआँ- सा उठ रहा...

बभ्रुवाहन-एक योद्धा

 # कहानी_से_पहले_की_कहानी                           ★★  महाभारत के बाद मुनि वेदव्यास और श्री कृष्णजी ने धर्मराज...

है यकीं ये हम मिलेगे एक दिन

है यकीं ये हम मिलेगे एक दिन     है यकीं ये हम मिलेगे एक दिन! साथ में दोनों चलेगे एक दिन   छोड़कर जिद वो नज़ाकत की मगर बात दिल...

गिला- शिकवा नहीं करते कभी ज़ालिम ज़माने से

गिला- शिकवा नहीं करते कभी ज़ालिम ज़माने से     गिला- शिकवा नहीं करते कभी ज़ालिम ज़माने से। न बेशक बाज़ आता है अभी भी दिल दुखाने से।।   सदा...

ढा रहे अपने सितम ये

ढा रहे अपने सितम ये     ढा रहे अपनें सितम ये हो गया कैसा  वतन ये   हम मिटा देगे अदूँ को जान से प्यारा वतन ये   सब मिटा देगे जहां...

कुछ रिश्तों की इतनी ही उम्र होती है

आज सर्दियों की धुंध भरी शाम है। मैं धीरे-धीरे चलते हुए घर लौट रहा हूँ। सड़क के किनारे लगीं पोल लाइटों से उर्जित प्रकाश...

आंखों से मेरी सभी वो आज रूठे ख़्वाब है

आंखों से मेरी सभी वो आज रूठे ख़्वाब है     आंखों से मेरी सभी वो आज रूठे ख़्वाब है! हो गये है जिंदगी से दूर सारे ख़्वाब...

प्यार से मुझको उसने मनाया नहीं

प्यार से मुझको उसने मनाया नहीं     प्यार से मुझको उसने मनाया नहीं । प्यार मुझपे कभी भी जताया नहीं ।।   मै उसे यार अपना कहूँ किस तरह...