बाल साहित्य के राष्ट्रीय सम्मान घोषित
बाल साहित्य के राष्ट्रीय सम्मान घोषित

डॉ विकास दवे को गीता भाटिया आलोचना सृजन सम्मान

 

श्रीगंगानगर। सृजन सेवा संस्थान की ओर से राष्ट्रीय स्तर पर दिए जाने वाले वार्षिक सम्मान की घोषणा कर दी गई है। इस वर्ष संस्थान के सभी सम्मान बाल साहित्य पर केंद्रित थे और वरिष्ठ साहित्यकारों के निर्णायक मंडल ने इन सम्मान के लिए साहित्यकारों का चयन किया है।

सृजन के अध्यक्ष डॉ. अरुण शहैरिया ‘ताइर’ ने बताया कि इन सम्मानों में प्रमुख सुभाष अनेजा साहित्यिक पत्रकारिता सम्मान भीलवाड़ा में वर्षों तक बाल वाटिका पत्रिका का संपादन करते रहे भैरुलाल गर्ग को और गीता भाटिया आलोचना सृजन सम्मान साहित्य अकादमी, म प्र ,भोपाल के निदेशक डॉ. विकास दवे को दिया जाएगा।

ज्ञातव्य है कि डॉ विकास दवे ने भारतीय बाल साहित्य शोध संस्थान,इंदौर के निदेशक का दायित्व निर्वाह करते हुए स्वयं भी प्रचुर मात्रा में आलोचना साहित्य का लेखन किया, स्वयं बाल साहित्य पर 3 बड़े शोधकार्य सम्पन्न किये और 80 से अधिक शोधार्थियों को बाल साहित्य पर शोध करने में मार्गदर्शन प्रदान किया।

संभवतः यह भारत के बाल साहित्य क्षेत्र में आलोचना हेतु दिया गया सबसे बड़ा अवदान है । इसी अवदान के लिए उन्हें इस अलंकरण हेतु चयनित किया गया।इन सम्मानों में भेंट राशि, अलंकरण, अंगवस्त्र और सम्मान पत्र प्रदान किये जाते हैं।

ये सम्मान कोविडकाल के बाद स्थिति सामान्य होने पर श्रीगंगानगर में आयोजित समारोह में दिए जाएंगे।

सृजन के सचिव कृष्णकुमार ‘आशु’ ने बताया कि इस बार निर्णायक मंडल में बाल साहित्य जगत के वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. मंगत बादल, गोविंद शर्मा, डॉ. विमला भंडारी एवं डॉ. नवज्योत भनोत शामिल थे।

कृष्णकुमार ‘आशु’
सचिव
सृजन सेवा संस्थान, श्रीगंगानगर (राजस्थान)

यह भी पढ़ें : –

विश्व हिन्दी दिवस की पूर्व संध्या पर अंतरराष्ट्रीय वेबिनार

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here