Home कहानियां

कहानियां

गुरु कुम्हार | Kavita

गुरु कुम्हार ( Guru kumhar )   गुरु कुम्हार शिष् कुंभ है गढ़ी गढ़ी कांठै खोट। अंतर हाथ सहार दे बाहर बाहे चोट। हर लेते हो दुख सारे खुशियों...

सुनो..| Romantic Poetry In Hindi

सुनो.. ( Suno )   सुनो... तुम एक बार दो कदम घर से निकल कर देखो तो जरा चार क़दम चलते ही मैं उसी चौराहे पर खड़ा इंतजार कर रहा होऊंगा तुम्हारे आने का....   उस चौराहे से चुन...

कल्लू की इंसानियत | Hindi Kahani

कल्लू की इंसानियत ( Kallu ki insaniyat ) इक पड़ोसी ने दूसरे पड़ोसी से कहा ये जो नया पड़ोसी कल्लू आया है एकदम खराब है यह...

जानेमन | Hindi Kahani

उर्मि के कदमों में आज तेजी थी। हर दिन से आज 10 मिनट देर से थी वह। सुबह वह भूल ही गयी थी कि...

Kahani | कसम तोड़ दी हमने

कसम तोड़ दी हमने ( Kasam Tod Di Humne )   आज फिर कैलेंडर में 12 तारीख देखकर ओवैस की आंखों में नमी उतर आई, उसके हाथ...

Laghukatha | मुझे आजाद कर दो

वेंटिलेटर पर पड़ी वह बार-बार एक ही बात बोले जा रही है "मैं मर जाना चाहती हूं,प्लीज मुझे मर जाने दो।" जिंदगी और मौत के बीच...

Hindi Laghukatha | Kahaniya -दहेज़ एक मज़ाक : लघुकथा

दहेज़ एक मज़ाक : लघुकथा ( Dahej Ek Mazak : Laghukatha ) लाला नारायण दास की शहर में सुनार की बहुत बड़ी दुकान है । आज उनकी...

Hindi Kahani | Kahani टिकैत बाबा और मनचाहे गीत

तब रामू की उम्र 13-14 वर्ष रही होगी जब वह अपनी भैंस चराने दूर खेतों में ले जाता था। हर रोज दोपहर 3 बजे...

व्यंग्यात्मक लघुकथा Hindi Short Stories -जंगल में चुनाव

जंगल में चुनाव ( व्यंग्यात्मक लघुकथा ) ( Jangal Mein Chunav )   शहर की भीड़-भाड़ से दूर जंगल में एक शेर रहता था।जिसका नाम शेर ख़ान था।अब...

Panchtantra Ki Kahani -खरगोश को हुआ चिकन पॉक्स

खरगोश को हुआ चिकन पॉक्स ( पंचतंत्र की कहानी ) एक बार की बात है। एक जंगल में बिन्नी नाम का एक खरगोश रहता था। एक दिन...