Dewali essay in Hindi
Dewali essay in Hindi

दीपावली पर निबंध

( Essay in Hindi on Dewali )

 

प्रस्तवना –

भारत त्योहारों की भूमि है। हालांकि कोई भी त्योहार दिवाली से बढ़ कर नही है। यह निश्चित रूप से भारत के सबसे बड़े त्योहारों में से एक है। यह शायद दुनिया का सबसे चमकीला त्योहार है।

आजकल तो विभिन्न धर्मों के लोग दिवाली मनाते हैं। सबसे उल्लेखनीय बात यह त्योहार अंधेरे पर प्रकाश की जीत का प्रतीक है। इसका अर्थ बुराई पर अच्छाई की जीत और अज्ञान पर ज्ञान की जीत। इसे रोशनी के त्योहार के रूप में जाना जाता है। दिवाली के दौरान पूरे देश में चमकदार रोशनी होती है।

दीपावली का धार्मिक महत्व

इस त्योहार के धार्मिक महत्व में अंतर है। यह भारत में एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में भिन्न होता है। दिवाली के साथ कई देवी-देवताओं, संस्कृतियों और परंपराओं का जुड़ाव है। इन भिन्नताओं का कारण संभवतः स्थानीय फसल उत्सव हैं। इसलिए इन फसल त्योहारों हिंदू त्योहार में एक संलयन था।

दिवाली राम की वापसी का दिन है इस दिन अयोध्या लौटे थे भगवान राम अपनी पत्नी सीता के साथ।  राम द्वारा राक्षस राजा रावण को हराने के बाद यह वापसी की गई थी।

राम के भाई लक्ष्मण और हनुमान भी अयोध्या वापस  आये थे। दिवाली के कारण एक और लोकप्रिय परंपरा है। यहां भगवान विष्णु ने कृष्ण के अवतार के रूप में नरकासुर का वध किया था।

नरकासुर एक राक्षस था। इस जीत ने 16000 बंदी लड़कियों को रिहा कर दिया। यह जीत बुराई पर अच्छाई की जीत को दर्शाती है।

एक पौराणिक कथा के अनुसार दिवाली लक्ष्मी विवाह की रात है। इस रात उसने विष्णु को चुना और शादी की। पूर्वी भारत के हिंदू दिवाली को देवी दुर्गा या काली से जोड़ते हैं। कुछ हिंदू दिवाली को नए साल की शुरुआत मानते हैं।

दीपावली का आध्यात्मिक महत्व

सर्व प्रथम कई लोग दिवाली के दौरान लोगों को माफ करने की कोशिश करते हैं। इस अवसर को लोग निश्चित रूप से आपसी बिबादों को भुलाने के लिए करते हैं। इसलिए दिवाली के दौरान दोस्ती और रिश्ते और भी मजबूत हो जाते हैं। लोग अपने दिल से नफरत की सभी भावनाओं को दूर कर देते हैं।

समृद्धि लती है यह खूबसूरत त्यौहार।  सारे हिन्दू ब्यापारी अपने पुराने खता बही को चेंज करते है।  माँ लष्मी से समृद्धि और उज्जवल भविष्य की कामना करते है। अपने और सारे घरवालों के लिए नए कपडे खरीदते है। यह प्रकाश पर्व लोगों में शांति लाता है।

यह हृदय में शांति का प्रकाश लाता है। दिवाली लोगों को आध्यात्मिक शांति प्रदान करती है। खुशी और खुशी बांटना दिवाली का एक और आध्यात्मिक लाभ है।

रोशनी के इस त्योहार में लोग एक दूसरे के घर जाते हैं। वे खुश संचार करते हैं अच्छा खाना खाते हैं और आतिशबाजी का आनंद लेते हैं।

निष्कर्ष –

दिवाली भारत के साथ साथ दुनिया भर में मनाया जाता है। दिवाली की गिनती निश्चित रूप से दुनिया के सबसे खूबसूरत त्योहारों में की जाती है। हम सब के लिए बहोत बड़ा ये खुशी का अवसर है।

 

लेखिका : अर्चना  यादव

यह भी पढ़ें :-

निबंध – राजनीति का अपराधीकरण भारतीय लोकतंत्र के लिए एक खतरा

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here