बरखा
बरखा

बरखा

 

छम-छम करती आ पहुंची, फुहार बरखा की।
कितनी प्यारी लगती है, झंकार बरखा की।।

 

हल्की-फुल्की धूप के मंजर थे यहां कल तलक।
टपा-टप पङी बूंदे बेशुमार बरखा की।।

 

पानी का गहना पहने है , खेत, पर्वत, रास्ते।
करके श्रृंगार छाई है , बहार बरखा की।।

 

झींगुर, मोर, पपीहा, कोयल, पेङ, पौधे,बच्चे।
दिल में चाहत रखता है, संसार बरखा की।।

 

तपते बदन पर आन पङे जब ठण्डी-ठण्डी बूंदे।
काम-बाण सी लागे तिरछी धार बरखा की।।

 

तन-मन दोनों भीग गए झलक पाकर इसकी।
जब देखा बढती जा रही रफ्तार बरखा की।।

 

बे-हिसाब मत ना बरसो, अर्ज करे “कुमार”।
कोई प्यासा कोई सह रहा है मार बरखा की।।

🌧️

लेखक: Ⓜ मुनीश कुमार “कुमार”
(हिंदी लैक्चरर )
GSS School ढाठरथ
जींद (हरियाणा)

यह भी पढ़ें : 

शान तिरंगे की

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here