साहित्यिक गतिविधि

अनुभूति शर्मा को शब्द आराधना और बेटी प्रतिभा सम्मान

छिंदवाड़ा - साहित्य, संस्कृति एवं अध्यात्म जगत से जुड़ी अनुभूति शर्मा को साहित्य संस्कृति के क्षेत्र मे किये गए उत्कृष्ट कार्यो के लिए 'शब्द...

स्वतन्त्रता दिवसपर (अमृत महोत्सव) के रूप में ब्रजभूमि पटलपर मैराथन काव्यगोष्ठी

15 अगस्त 2022 दिन सोमवार को 76 वे स्वतन्त्रता दिवस को अमृत महोत्सव के साथ ब्रजभूमि पटल मथुरा के संस्थापक आचार्य श्रीकृष्ण भारद्वाज शास्त्री...

तीन-दिवसीय ‘शब्दाक्षर चेन्नई साहित्योत्सव’ सफलतापूर्वक सम्पन्न

-'शब्दाक्षर' की पच्चीस प्रादेशिक इकाइयों से आये पदाधिकारियों ने विभिन्न विधाओं में अपनी बेहतरीन प्रस्तुतियों से दर्शकों को झूमने पर किया विवश -राष्ट्रीय अध्यक्ष रवि...

चेन्नई में रमाकांत सोनी सम्मानित

चेन्नई में रमाकांत सोनी सम्मानित किया झुंझुनूं जिला सहित राजस्थान का प्रतिनिधित्व   नवलगढ़।"शब्दाक्षर" साहित्यकारों का तीन दिवसीय अखिल भारतीय साहित्य समारोह तमिलनाडु (चेन्नई ) में...

नवलगढ़ के साहित्यकार कवि रमाकांत सोनी होंगे राष्ट्रीय शब्दाक्षर पदाधिकारी

नवलगढ़ के साहित्यकार कवि रमाकांत सोनी होंगे राष्ट्रीय शब्दाक्षर पदाधिकारी साहित्य सेमिनार में शरीक 'शब्दाक्षर' साहित्यकारों का भव्य अखिल भारतीय साहित्य समारोह तमिलनाडु, चेन्नई...

“अंतरराष्ट्रीय साहित्य संगम” की ओर से प्रेमचंद जयंती

भारतीय जनमानस का चितेरा लोक कथाकार प्रेमचंद की जयंती के अवसर पर "अंतरराष्ट्रीय साहित्य संगम" (साहित्यिक सांस्कृतिक संस्था) के तत्वावधान में संस्था के अध्यक्ष...

झुंझुनूं के 15 सहित 75 प्रतिभाओं का हुआ सम्मान

नवलगढ़।स्वर्णकार समाज के आदि पुरूष महाराजा अजमीढ़ देव मन्दिर के स्थापना दिवस पर 75 प्रतिभाओं का सम्मान किया गया जिसमें झुंझुनूं जिले के 15...

जिले का साहित्य इतिहास तैयार करेगी साहित्य अकादमी

छिंदवाड़ा - साहित्य अकादमी, मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद, मध्यप्रदेश शासन संस्कृति विभाग भोपाल द्वारा जिले का साहित्यिक गजेटियर (जिले का साहित्य इतिहास) तैयार करने का...

नवलगढ़ के साहित्यकार कवि रमाकांत सोनी की कृति काव्य के स्वर्णिम...

जिज्ञासा प्रकाशन गाजियाबाद से प्रकाशित काव्य कृति काव्य के स्वर्णिम अक्षर का नवलगढ़ के साहित्यकार कवि रमाकांत सोनी पुस्तक का शीघ्र ही विमोचन करेंगे।...

“बंकिमचंद्र के जन्मदिन पर अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन”

भारतीय स्वतंत्रता काल में क्रांतिकारियों का प्रेरणास्रोत -'वंदे मातरम्'- जो 1937 में भारत का राष्ट्रगीत बन गया, जिसके रचयिता बंग्ला भाषा के प्रख्यात उपन्यासकार...