जीवन में जब भी चैन मिले
जीवन में जब भी चैन मिले

जीवन में जब भी चैन मिले

 

 

जीवन में जब भी चैन मिले।

हर बार छलकते नैन मिले।।

 

आराम मिटाने जीवन का।

हरदम ही वो बेचैन मिले।।

 

टूट चुका है नाजुक दिल ये।

जुल्मो-सितम दिन-रैन मिले।।

 

पत्थर दिल को छलनी कर दे।

नित ऐसे तीखे बैन मिले।।

 

“कुमार’मिला न जहां में ईंशां।

बस हिन्दू मुस्लिम जैन मिले।।

 

?

 

कवि व शायर: Ⓜ मुनीश कुमार “कुमार”
(हिंदी लैक्चरर )
GSS School ढाठरथ
जींद (हरियाणा)

यह भी पढ़ें : 

जगमग जगमग दीप जले है | Diwali ki kavita

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here