कुमार अहमदाबादी की रुबाइयाँ

जीवन का सार

दो दिन की है बहार खुलकर पी ले
अर्थी पर है सवार खुलकर पी ले
अपनी इच्छाओं का करना सम्मान
यही है जीवन का सार खुलकर पी ले

भेद

कहता हूं मैं भेद गहन खुल्लेआम
कड़वी वाणी करती है बद से बदनाम
जग में सब को मीठापन भाता है
मीठी वाणी से चटपट होते काम

आंखें हैं लेकिन

आंखें हैं लेकिन तू अंधा बन जा
सुन सकता है फिर भी बहरा बन जा
भगवदगीता कुछ भी कहती हो तू
अपने सुख की खातिर गूंगा बन जा

इस दीवाने से

मेरे जैसे ही इस दीवाने से
बातें करता हूँ मैं पैमाने से
बातें तो फ़ालतू की होती है पर
दोनों को बांधती है याराने से

जाम

दो बोतल जाम और थोडी नमकीन
साथी हों चंद सोमरस के शौक़ीन
मस्ती का दौर फिर चले एसे की
सांसें भी अंत तक हो जाए रंगीन

मज़हब के ठेकेदार

जितने भी हैं मज़हब के ठेकेदार
सोचो अच्छे हैं क्या उन के किरदार
कहते हैं कुछ पर करते हैं कुछ औ’
सब के सब हैं तन से मन से बीमार

मेरी प्यारी

मेरी प्यारी मय लेकर आ रानी
पर लाना मत पानी ए दीवानी
नखरों को घोल कर तू धीरे धीरे
मुझ को पी ला मय मेरी मनमानी

याराने से

मेरे जैसे ही इस दीवाने से
बातें करता हूँ मैं पैमाने से
बातें तो फ़ालतू की होती है पर
दोनों को बांधती है याराने से

मास्टर जी

ककहरा मुझ को पढाएं मास्टर जी
व्याकरण क्या है बताएं मास्टर जी
मुझ को गिनती करनी है लाखों की कल आज
एक से सौ तक सिखाएं मास्टर जी

जब तार

जब तार परम शक्ति से जुड़ जाता है
इंसान अकेला भी मुस्काता है
रोता है कभी गीत कभी गाता है
गाते हुए ही वो मुक्ति भी पाता है

आओ आ जाओ

आओ आ जाओ अब दुल्हन बनकर
महका दो जीवन को चंदन बनकर
मानो सजनी पुकार प्रेमी दिल की
सांसों को धडका दो जीवन बनकर

मौका दे दो

मौका दे दो कभी तो कुछ कहने का
इक अवसर चाहिये कमर कसने का
सच सच कहना मुझे ए साजन आखिर
क्यों नहीं देते तुम मौका लड़ने का

है मुश्किल

गम के प्यालों को पीना है मुश्किल
गहरे घावों को सीना है मुश्किल
प्यालों को पीकर घावों को सीकर
भी लंबा जीवन जीना है मुश्किल

हो ही जाती है

तब आंख कटीली हो ही जाती है
औ’ चाल नशीली हो ही जाती है
जब आती है मदमस्त जवानी यारों
हर सांस रसीली हो ही जाती है

सताती है वो

गर रुठ जाऊं मुझे मनाती है वो
नखरे कर के सदा सताती है वो
बस इतनी सी है आपबीती मेरी
नर्तक सा प्यार से नचाती है वो

मत रोक मुझे

गालों को भीगना है मत रोक मुझे
छालों को फूटना है मत रोक मुझे
सूखे सूखे आंसूओं को यारा
प्यालों में डूबना है मत रोक मुझे

याद करते हैं इसे

कोयल औ’ मोर याद करते हैं इसे
खट मीठे बोर याद करते हैं इसे
कुदरत से रिश्ता होने के कारण
बादल घनघोर याद करते हैं इसे

कुमार अहमदाबादी

यह भी पढ़ें:-

जवानी | Ghazal Jawani

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here