Sheeshon ke ghar kavita
Sheeshon ke ghar kavita

शीशों के घर

( Sheeshon ke ghar )

 

 

शीशों के घर लड़ते हैं ।
पत्थर हम पर पड़ते हैं ।।

 

कहने के ही पत्थर हैं ।
शीशों से भी डरते हैं ।।

 

चाकू और सियासत को ।
हम भेड़ो से लगते हैं ।।

 

कच्चे शीशों की पत्थर ।
पहरेदारी करते हैं ।।

 

बदन कांच के हैं जिनके ।
पत्थर का दिल रखते हैं ।।

 

✍?

 

लेखक : : डॉ.कौशल किशोर श्रीवास्तव

171 नोनिया करबल, छिन्दवाड़ा (म.प्र.)

यह भी पढ़ें : –

नहीं होती | Nahi hoti kavita

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here