Nahi hoti kavita
Nahi hoti kavita

नहीं होती

( Nahi hoti )

 

जिन्दगी कहानी नहीं होती ।
एक सी रबानी नहीं होती ।।
उधारी बाप और बेटे में ।
आज मुंह जबानी नहीं होती ।।
इबादत खाली हाथ करने से ।
कोई मेहरबानी नहीं होती ।।
आज के दौर में पहले जैसी ।
हकीकत बयानी नहीं होती ।।
गरीब जन्म से ही बूढ़ा है ।
उसमें जबानी नहीं होती ।।

 

 

✍?

 

लेखक : : डॉ.कौशल किशोर श्रीवास्तव

171 नोनिया करबल, छिन्दवाड़ा (म.प्र.)

यह भी पढ़ें : –

वक़्त | Kavita waqt

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here