आप कहके मुकर जाइये।।
आप कहके मुकर जाइये।।

आप कहके मुकर जाइये।।

 

अब इधर न उधर जाइये।

आप दिल में उतर जाइये।।

आईना भी जले देखकर,

इस कदर न संवर जाइये।।

हमको अच्छा लगेगा बहुत,

आप कहके मुकर जाइये।।

आखिरी इल्तज़ा आपसे,

मेरे घर से गुज़र जाइये।।

गांव है शेष भोले हैं लोग,

आप सीधे शहर जाइये।।

 

🍀

लेखक: शेषमणि शर्मा”इलाहाबादी”

जमुआ,मेजा , प्रयागराज

( उत्तरप्रदेश )

यह भी पढ़ें :

न जाने कौन हूं मैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here