http://thesahitya.com/kundaliya-chhand/
http://thesahitya.com/kundaliya-chhand/

धीरज

( Dheeraj )

 

नर धीरज धारिये, संयम धरे विचार।
धीरे-धीरे बढ़ चलो, ध्वज लहराइये।

 

धैर्यपूर्वक जो चले, शील गुणी जन जान।
धीरे-धीरे मुखर हो, पहचान पाइए।

 

धीर अमोध अस्त्र है, मृदु वाणी सुरज्ञान।
सुर लय तान बन, गीत मीत गाइए।

 

रणबीर बलवीर, समर न धरो धीर।
राष्ट्रहित रणभूमि, वीरता दिखाइए।

    ?

कवि : रमाकांत सोनी

नवलगढ़ जिला झुंझुनू

( राजस्थान )

यह भी पढ़ें :-

दीप जलाए प्रेम के | Kundaliya chhand

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here