Manharan ghanakshari chhand
Manharan ghanakshari chhand

अहसास

( Ahsas )

 

सुहाना अहसास हो,
मेरे दिल के पास हो।
लगता कोई खास हो,
मन मीत आइए।

 

मधुर संगीत कोई,
तराना हो प्यार भरा।
जिंदगी के सफर में,
सदा मुस्कुराइए।

 

महकती बयार हो,
अहसास खुशियों का।
मधुर मुस्कान कोई,
लबों पर लाइए।

 

सावन बरसता हो,
या तुम घटाएं काली,
प्रीत भरी मीठी बातें,
रस बरसाइये।

 

   ?

कवि : रमाकांत सोनी

नवलगढ़ जिला झुंझुनू

( राजस्थान )

यह भी पढ़ें :-

दरख़्त कुल्हाड़ी | Kavita

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here