शिवपूजन सहाय एवं सुभाषचंद्र बोस को श्रद्धांजलि स्वरूप अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन

"शिवपूजन सहाय एवं सुभाषचंद्र बोस को श्रद्धांजलि स्वरूप अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन"   पत्रकार, उपन्यासकार, संपादक एवं कहानीकार शिवपूजन सहाय की पुण्य तिथि 21 जनवरी एवं भारत...

नटखट कान्हा | Geet Natkhat Kanha

नटखट कान्हा हाथों में बांसुरी लिए एक ग्वाला होगा ( Natkhat Kanha hathon mein bansuri liye ek gwala hoga )    अधर मुरलिया मोहनी मूरत सांवरी सूरत...

दुनिया का घाव | Kavita Duniya ka Ghaav

दुनिया का घाव! ( Duniya ka ghaav )   दुनिया का घाव सुखाने चला हूँ, बुझता चराग मैं जलाने चला हूँ। बच्चों के जैसा शहर क्यों हँसें न, कोई...

अपना ऐसा गणतंत्र हो | Gantantra Diwas par Kavita

अपना ऐसा गणतंत्र हो ( Apna Aisa Gantantra Ho )    अपना ऐसा यह गणतंत्र हो, और बच्चें एक या दो ही हो। हौंसले सबके यें मज़बूत हो, व स्वतंत्रता...

शिव पार्वती | Shiva Parvati par Kavita

शिव पार्वती ( Shiv Parvati )   पार्वती में जो सुन्दरता है, वो शिव के होने से है। शिव में जो कोमलता है, वो पार्वती के होने से है।। गिरिजा...

फूल और कांटे | Kavita Phool Aur Kaante

फूल और कांटे! ( Phool Aur Kaante )    मत बेचो रोशनी अपने मकान की, कुछ तो लाज रखो दुनिया जहान की। मिसाइलों की भृकुटी चढ़ा रखा है वो, कुछ...

आजमाने की खातिर | Ghazal Aazmane ki Khatir

आजमाने की खातिर ( Aazmane ki khatir )   वो अक्सर मुझे आज़माने की खातिर। जलता रहा खुद जलाने की खातिर।। मुहब्बत में आया तो इक बात समझी, ये आंखें...

कर्तव्य पथ पर | Kavita Kartavya Path Par

कर्तव्य पथ पर ( Kartavya path par )    मैं डट कर स्थिर खड़ी रहूँगी, कर्तव्य पथ पर निरंतर चलूंगी। किसी प्रहार से कोशिश छोडूंगी नहीं। हाथ किसी के आगे...

माँ कामाख्या देवी | Kamakhya Devi par Kavita

माँ कामाख्या देवी ( Maa Kamakhya Devi )    जो भी मां के द्वारे जाते वो खाली कोई ना आते, झोली सभी की भर देती है वह कामाख्या...

दादी माँ की मन्नत | Kavita Dadi Maa ki Mannat

दादी माँ की मन्नत ( Dadi maa ki mannat )    माॅंगी जो हमनें मन्नत एक, रखना ईश्वर हम सबको एक। यह बैर किसी से हो नही पाएं, प्रेम-भाव...