Shayari pyar ki
Shayari pyar ki

किया था प्यार मगर

( Kiya tha pyar magar )

 

किया था प्यार मगर हमनें जताया ही नही।
वो कैसे जानती जो हमने बताया ही नही।
रहा अफसोस हमेशा ही से ये दिल मे मेरे,
क्यों ये जज्बात मेरे दिल के दिखाया ही नही।

किया था प्यार मगर….

 

दबा दिया दिल में ख्वाहिशों को खुद अपने।
कदम को खींच लिया कुछ भी ना कहाँ उससे।
क्या बताते उसे हम हाल ए वफा की बन्दिश,
इसलिए मैने कभी प्यार जताया ही नही।

किया था प्यार मगर…..

 

मन में इक टीस सी है दिल से जो जाती ही नही।
सब्र के आसूँ भी अब नयन मे रूक पाती नही।
ना ग़म बताया कभी मैने ना मजबूरी कही,
इसलिए खुल के कभी सामने आया ही नही।

किया था प्यार मगर…..

 

बाद वर्षो मिले है फिर हम उसी चौराहे पर।
केशु खींजाबी मगर आँखों मे वही प्यार लिए।
तबसे बेचैन जिगर बार बार ये कहता है,
सुन रे “हुंकार” उसे अपना बनाया क्यो नही।

किया था प्यार मगर……

  ?

          शेर सिंह हुंकार जी की आवाज़ में ये कविता सुनने के लिए ऊपर के लिंक को क्लिक करे

✍?

कवि :  शेर सिंह हुंकार

देवरिया ( उत्तर प्रदेश )

यह भी पढ़ें : –

प्यार मोहब्बत की सब बातें | Pyar mohabbat ki sab baatein

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here