🌿  ऐसा हो संसार जहाँ पर  🌿
🌿  ऐसा हो संसार जहाँ पर  🌿

🌿  ऐसा हो संसार जहाँ पर  🌿

आओ मिलकर करें कल्पना हम ऐसे संसार की।
जहाँ भावना त्याग समर्पण प्रेम और उपकार की।।

🌼

ऐसा हो संसार जहाँ पर,
सब मिलकरके  रहते हो।
एक-दूजे को गले लगाकर
भाई -भाई कहते हो।।
सोच सभी की होनी चाहिए सृष्टि के उद्धार  की।

🌼

कर्म की पूजा होती हो वहाँ,
मेहनत का फल मिलता हो।
आपसी वार्तालापों से ही,
समस्या का हल मिलता हो।।
जहाँ कदर होती हो केवल उत्तम उच्च विचार की।

🌼

मानवता को धर्म मानकर,
जीव की सेवा होती हो।
स्वर्ग-सा संसार बने सब,
दुनिया सुख से सोती हो।।
आपस में सब बोलते हो मीठी भाषा प्यार की।

🌼

सहज, सरल, विनम्र, सच्चे,
जिसमें सब इंसान हो।
परोपकार की भावना से जहाँ,
सबका ही कल्याण हो।।
‘विश्वबंधु’ जग हितकारी पद्धति हो प्रचार की।

🌼

कवि: राजेश पुनिया  ‘विश्वबंधु’

 

 

यह भी पढ़ें : 🌾 तुम्हे रुलाने आया हूँ 🌾

1 COMMENT

  1. बहुत उम्दा सृजन।
    बधाई जी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here