छोड़ दें करनी नहीं यें मयकशी अनमोल है
छोड़ दें करनी नहीं यें मयकशी अनमोल है

छोड़ दें करनी नहीं यें मयकशी अनमोल है

( Chod Den Karni Nahi Ye Mayakashi Anamol Hai )

 

 

छोड़ दें करनी नहीं यें मयकशी अनमोल है
देखिए  यारों  बहुत  ही जिंदगी अनमोल है

 

 

तोड़ना  मत  तू  कभी  भी दोस्ती ए यार यें
 दिल में रखना तू बसाकर दोस्ती अनमोल है

 

तू  सदा  रहना  रवानी से ग़मों की उम्रभर
जिंदगी में तू बसाकर रख ख़ुशी अनमोल है

 

मत तोड़ो शाखें गुलिस्तां के नाजुक सी प्यार की
 देखिए  भी  फ़ूलों  के  हर  पंखड़ी  अनमोल  है

 

छोड़ दें चलना ग़लत राहों पे तू सच कहूँ मैं
कर ख़ुदा की तू हमेशा बंदगी अनमोल है

 

नफ़रतों के जाल मत दिल में बुनो तुम ए लोगों
जिंदगी  में  ही  रवानी  प्यार  की अनमोल है

 

तू सदा लिखना ग़ज़लें आज़म मुहब्बत की यूं ही
जिंदगी  के  ही  लिए  यें  शाइरी  अनमोल  है

 

❣️

शायर: आज़म नैय्यर

(सहारनपुर )

यह भी पढ़ें : –

Ghazal | होली

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here