दयार-ए-इश्क़ से डर गए हम भी
दयार-ए-इश्क़ से डर गए हम भी

दयार-ए-इश्क़ से डर गए हम भी

( Dayaar -e- ishq se dar gaye hum bhi )

 

दयार-ए-इश्क़ से डर गए हम भी

फिर तेरे तलाश में दर-ब-दर गए हम भी

 

ज़िन्दगी भर बूतान-ए-इश्क़ के किस्से सुने

और पयान-ए-शौक़ से गुज़र गए हम भी

 

तलाश में ना आगे बढ़ा, ना वहां से लौट सका

बस दीदार-ए-यार से सँवर गए हम भी

 

नशा पे चढ़े थे हम मर्ज़-ए-दवा बनकर

जब होश आया तब उतर गए हम भी

 

हमारे होने से ही महफ़िल, महफ़िल है

क्या होगा यहाँ से अगर गए हम भी

 

बाद-ए-सबा में रंग भर जाया करती थी

उसके बाद ‘अनंत’ फिर बिखर गए हम भी

 

शायर: स्वामी ध्यान अनंता

 

यह भी पढ़ें :-

हाल-ए-दिल | Hal-E- Dil | Ghazal

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here