देवा श्री गणेशा

( Deva shree ganesha ) 

 

रिद्धि सिद्धि के दाता सब विध्नहर्ता,
सब कार्यों में प्रथम पूज्य शुभारंभ कर्ता।
देवा श्री गणेशा…….
सबसे निराले और विलक्षण रूप धारी,
शुभ और लाभ दाता हैं मंगल कारी।
देवा श्री गणेशा……
इनकी पूजा बिना न कोई काम होवे,
इनको है भाते मावा, लड्डू और खोवे।
देवा श्री गणेशा……
सब देवों में प्रथम पूजा इनका ही होता,
इनके पूजा बिना न कोई काम शुरू होता।
देवा श्री गणेशा…..
सर्व मंगलकारी और शुभ लाभ दाता,
शिव गणों के स्वामी कार्तिकेय भ्राता।
देवा श्री गणेशा……
करो मंगल हमारा हे गणेश देवा,
अर्पण है आपको शुद्ध लड्डू और मेवा।
देवा श्री गणेशा…..

 

रचनाकार –मुकेश कुमार सोनकर “सोनकर जी”
रायपुर, ( छत्तीसगढ़ )

यह भी पढ़ें :-

पावन पर्व हरितालिका तीज | Hartalika teej kavita

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here