Kavita bal apradh
Kavita bal apradh

बाल अपराध

( Bal apradh )

 

क्या लिखूं मैं उस मासूमियत के लिए ,
जिसे सुन हाथों से कलम छूट जाती है।
हृदय मेरा सहम जाता है।
उनकी चीखें गूंज रही मेरे इन कानों में
क्योंकि हर बच्चे के अश्रु ये कहते हैं
यूं ही नहीं होता कोई बच्चा
बाल अपराध का शिकार,
कुछ खुद से हार जाते हैं ,
तो कुछ भाग्य से मजबूर हो जाते हैं।
निष्ठुरो की इस दुनिया ने
कैसी नियति दिखलाई
कहीं भीख मंगवाया तो,
कहीं मजदूरी करवाई

 

☘️

लेखिका : नीता नगपुरे

बालाघाट  ( मध्यप्रदेश )
यह भी पढ़ें :-

रिश्ते- कुछ अनजान , कुछ अजनबी | Hindi short story

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here