खंजर
खंजर

खंजर

**

 

नरम  पत्तों  के  शाख से हम भी बहुत ही कोमल थे पर।
है छीला लोगो ने यू बार-बार की अब हम,खंजर से हो गये।

 

**
जिसे  ही  माना  अपना  उसने  ही  आजमाया  इतना।
कि शेर हृदय के कोमल भाव भी सूख के,पिंजर से हो गये।

 

**
मिट  गये  भाव  सुधा  सरिता  सूखी  है  हृदय पटल की।
सच है ये बात की अबकी शेर का मन भी,बंजर से हो  गये।

 

**
शिकायत क्यों किससे और बार- बार ये आँसू ना अब।
जो  बोला  जैसा  जिसने  साथ उसी से, मंजर से हो गये।

 

**
मिटा  दी  मोह  लोभ  अब  लोगो  की  बातों मे  पडना।
अब शेर  भी तन और मन से, पार्थ धनुर्धर हो गये।
**

✍🏻

कवि :  शेर सिंह हुंकार

देवरिया ( उत्तर प्रदेश )

 

यह भी पढ़ें : 

और हिन्दी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here