कितना सहा होगा
कितना सहा होगा

🍀 कितना सहा होगा 🍀

कितना सहा होगा
उन गर्भवती औरतों ने
सड़क पर चलते हुए दर्द
नंगे पैरों ,उखड़े कदमों से
भूखे पेट और उतरे चेहरे से।।

🐾

कितनी पीड़ा सही होगी
सड़क पर बच्चे को जन्म देते हुए
न कोई बिस्तर, न कोई दवा
काट कर नाल बच्चे का
टपकते अंगों से रक्त
चलना पड़ा फिर
लेकर नवजात को।।

🐾

कितना सहा होगा
उन लड़कियों और औरतों ने
जिनके राह चलते हुए
पीरियड के आ जाने पर
शर्म के मारे मर्दों के बीच
बैठे हुए गर्दन झुकाए।।

🐾

कितना सहा होगा
पीरियड के दौरान दर्द
न उनके पास पैड
न ही कोई कोई साफ कपड़ा
कपड़ा हो भी तो कैसे?
पता नहीं कितने दिन से धोए नहीं
जिससे छिपा सके वो
रिसते रक्त को।

🐾

कितना सहा होगा
पीरियड में दर्द
जब न पैड, न कोई कपड़ा
रक्त से सने बदन को लेकर
चलते हुए सड़क पर
छिल गईं होगी वो
पहने कपड़ों की रगड़ से
जांघों के बीच से……।।।।

🐾

 

कवि : सन्दीप चौबारा

( फतेहाबाद)

1 COMMENT

  1. बहुत बहुत धन्यवाद जी आपका मेरी कविता को प्रकाशित ओर प्रसारित करने के लिए🙏🙏🙏🙏

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here