माॅं सृष्टि है

( Maa shrishti hai ) 

 

माॅं
सृष्टि है
सृष्टि का वजूद है
आधार है

माॅं
जिंदगी का एहसास है
शोध है
बोध है

माॅं
हौसला है
प्रेरणा है
चेतना है

माॅं
धन है
बल है
ताकत है

माॅं
खुशियों का घर है
स्रोत है
संसाधन है

माॅं
जन्नत है
उपहार है

माॅं
संसार है

संसार की सारी दुनियाएं
माॅं के भीतर हैं
माॅं दुनिया की घर है

माॅं के बिन
घर
उदासी का ऋतु है
आलम है

माॅं बसंत है
माॅं फाग है

माॅं
घर में खुशियों का चिराग है

 

नरेन्द्र सोनकर ‘कुमार सोनकरन’
नरैना,रोकड़ी,खाईं,खाईं
यमुनापार,करछना, प्रयागराज ( उत्तर प्रदेश )

यह भी पढ़ें :-

ईश्वर ओम हो जाएगा | Ishwar Om ho Jayega

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here