मेरा दिल रो पड़ा देखते देखते
मेरा दिल रो पड़ा देखते देखते

मेरा दिल रो पड़ा देखते देखते

( Mera Dil Ro Para Dekhte Dekhte )

 

मेरा दिल रो पड़ा देखते देखते

वो जुदा जब हुआ देखते देखते

 

कह सका बात दिल की नहीं उससे कुछ

वो  जुदा  हो  गया  देखते  देखते

 

खा गया हूँ ठोकर पत्थर से नफ़रत की

राह  मैं  तो  चला  देखते  देखते

 

अजनबी था जो मेरे लिए शहर में

बन गया आशना देखते देखते

 

आख भरके किसी ने ऐसा देखा है

दिल घायल कर गया देखते देखते

 

प्यार का दिल में अहसास उसका हुआ

 मुस्कुरा  वो  पड़ा   देखते  देखते

 

मैं जिससे कल तलक आज़म अनजान था

दोस्त  मेरा  बना  देखते  देखते

 

❣️

शायर: आज़म नैय्यर

(सहारनपुर )

यह भी पढ़ें : –

आज अपना हबीब है देखा | Ghazal

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here