Poem boond bachaye
Poem boond bachaye

बूँद बचाये

( Boond bachaye )

 

बूँद बूँद से सागर भरता
बूँद बूँद से गागर
हम बूँद बचाएंगे तो भर जायेगा चापाकल
बर्षा का जल तो अमृत है होता
पर सब कोई उसे है खाता
बोल रही कब से ये हमारी जमीन है
जल नहीं पेयजल की बड़ी कमी है
अब सब जन इस बात को ले जान
बर्षा जल बचाएंगे सब के दिल का हो अरमान
आने वाले बच्चे हैं आने वाली पीढ़ी है
टूट रहा है धीरे धीरे अभी तैयार सीढ़ी है

🍀

कवि : आलोक रंजन
कैमूर (बिहार)

यह भी पढ़ें :-

युवाओं के लिए बेहद चर्चा का विषय रहा बेहद मोहब्बत | Book review

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here