तुम भा गए हो हमको कसम से
तुम भा गए हो हमको कसम से

तुम भा गए हो हमको कसम से

 

तुम भा गए हो हमको कसम से।
तुम्हे चुरा ले कोई ना हम से।।

 

बनके तसव्वुर से हौले-हौले।
दिल में बसे हो आकर के छम से।।

 

कितना पुराना है अपना नाता।
मिलते रहे हो जन्मो जन्म से।।

 

है जगमगाता तेरा ये मुखङा।
हो चांद खिलते से हुए पूनम से।।

 

गेसू खुले तो लगते ये बादल।
बिजली नज़र में छाई भरम से।।

 

नाजुक लगे कलि से लब ये दोनों।
रुखसार भी मानो लाल शर्म से।।

 

तेरी बलाएं सर अपने ले लूं।
रहना सलामत हरएक सितम से।।

 

नज़रे इनायत हम पे ये रखना।
जिंदा हू तेरे रहमो करम से।।

 

लगते वीराने मंजर ये तुम बिन।
“कुमार” रौनक तेरे ही दम से।।

 

🌹

कवि व शायर: Ⓜ मुनीश कुमार “कुमार”
(हिंदी लैक्चरर )
GSS School ढाठरथ
जींद (हरियाणा)

यह भी पढ़ें : 

 

जिंदगी का सफर मुश्किलों से ढ़ला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here