वह छुपे पत्थर के टूटने पर मीर ही ना हुई
वह छुपे पत्थर के टूटने पर मीर ही ना हुई

वह छुपे पत्थर के टूटने पर मीर ही ना हुई

🌼

वह छुपे पत्थर के टूटने पर मीर ही ना हुई

खामोशी से क़ुबूल हुआ, तफ़्सीर ही ना हुई

🌼

बिछड़ कर भी वह सुलह करना चाहती है

जुर्म नहीं किया उसने कोई तो वज़ीर ही ना हुई

🌼

दिलकश नहीं है जितना होना चाहिए था

ये तो फिर यक़ीनन तुम्हारी तस्बीर ही ना हुई

🌼

ये आशिक़ी भला क्या आशिक़ी हुई

जो किसी के ज़ीस्त का जागीर ही ना हुई

🌼

बिछड़ कर अब भी थोड़ी सी आस है

के दीवानी प्यार में फ़क़ीर ही ना हुई

🌼

कभी वस्वसे ना उड़े, कभी रायेगानी ना हुई

इस जाबिये से देखो तो ये जागीर ही ना हुई

🌼

खुल कर रक़्स में हो रही है वह शक्श शामिल

लोहा की बेड़िया भी उसके लिए ज़ंजीर ही ना हुई

🌼

‘अनंत’ बड़े दुशवारी से कुछ लिख रहा है

शिकायत ना करे की उससे तदबीर ही ना हुई

🌼

शायर: स्वामी ध्यान अनंता

 

यह भी पढ़ें : चौखट में कोई आए तो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here