ये चक्कर नया-नया है
ये चक्कर नया-नया है

ये चक्कर नया-नया है

 

दुनिया की सैर का ये चक्कर नया-नया है
जिस ओर देखता हूँ मंज़र नया-नया है

 

बिल्कुल अलग जहां से हालत है मेरे दिल की
अन्दर से ये पुराना बाहर नया- नया है

 

बेचैन इसलिए हूँ मख़मल की सेज पर मैं
मेरे लिये अभी ये बिस्तर नया-नया है

 

लगने लगी जहां की हर चीज़ रायगां अब
बदलाव सा ये मेरे अन्दर नया-नया है

 

बेहतर बता सकेगा वो घर की अहमियत को
जग में हुआ अभी जो बेघर नया-नया है

 

ख़ुद पर ग़रूर तुमको ,शायद है इसलिए ही
ये हाथ में तुम्हारे ख़ंजर नया-नया है

 

उम्मीद तुम वफ़ा की उससे करो न हरगिज़
हर रोज साथ जिसके दिलबर नया-नया है

 

तन्क़ीद कर रहा जो हर एक की ग़ज़ल पर
इस बज़्म में अभी वो शायर नया-नया है

 

मेरे जुनून से वो वाक़िफ़ नहीं है शायद
जो मेरे रास्ते का पत्थर नया- नया है

 

धरती के साथ उसने रिश्ते भुला दिये सब
वो शख़्स जिसके सर पर अम्बर नया-नया है

 

भाते नहीं है इसको ये बूढ़ी सोच वाले
जो साथ है “अहद “के लश्कर नया-नया है !

 

🌹

लेखक :– अमित ‘अहद’

गाँव+पोस्ट-मुजफ़्फ़राबाद
जिला-सहारनपुर ( उत्तर प्रदेश )
पिन कोड़-247129

यह भी पढ़ें :

मुहब्बत की बस ये कमाई रही

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here