होम लेखक द्वारा पोस्ट Admin

Admin

2490 पोस्ट 2 टिप्पणी

आग | Aag par kavita

 आग  ( Aag )   जीवन में आग का महत्व......|| 1.एक दम पवित्र एक दम तेज, देवों मे भी एक है | खुद मे हर चीज मिलाती, काम भी...

वादा कर लो | Prerna kavita

वादा कर लो ( Wada karlo )   जब लक्ष्य बना ही ली हो, तो हर कीमत पर  उसे पाने का भी अब वादा कर लो   और कर लो...

हाल-ए-दिल | Hal-E- Dil | Ghazal

हाल-ए-दिल का मत पूछ मेरे यार ( Hal-e-dil ka mat poochh mere yar )   सीने पे देखु तो दर्द का खबर लगता है मेरे ज़ख्म-ए-दिल लोगो को...

कर गये बदनाम | Kar gaye badnam | Ghazal

कर गये बदनाम ( Kar gaye badnam )   नजरों मे उनकी अनदेखा हो गये जिंदगी मे आज तन्हा हो गये   कर गये बदनाम ऐसा वो हमें प्यार मे हम...

ये जहाँ यूं भी तो नहीं मेरा | Ye jahan |...

ये जहाँ यूं भी तो नहीं मेरा ( Ye jahan yun bhi to nahi mera )   ये जहाँ यूं भी तो नहीं मेरा तुम्हारे बगैर गुज़ारा यूं...

मधु-मक्खी | Madhumakhi par kavita

मधु-मक्खी ( Madhumakhi )   मधु-मक्खी की महानता .....| 1.सौ शहर-सौ खेत गई, सौ कलियों से मुलाकात हुई | साथ मे लाखों साथी लेकर, सौ गलियों से शुरुवात हुई...

सपनों के लिये | Sapno ke liye | Kavita

सपनों के लिये ( Sapno ke liye )   हम अपने हर सपनों को सच कर सकते हैं,  चाहे वो चांद पर जाना हो या हो कोई और...

मधु | Madhu par kavita

 मधु  ( Madhu )    शहद बडी गुणकारी…..|| 1.शहद बडी गुणकारी, रहतीं दूर अनेक बिमारी | अमृत सा गाढा मीठा द्रव्य, कुदरत की कलाकारी | मधु की रचना मक्खी करती,...

क्यों मौत लिख कर कलम तक तोड़ दिया जाता है |...

क्यों मौत लिख कर कलम तक तोड़ दिया जाता है ( Kyon maut likh kar kalam tak tod diya jaata hai )   ज़िन्दगी का सफर क्या...

खामोशी विरोध की भाषा | Kavita khamoshi virodh ki bhasha

खामोशी विरोध की भाषा ( Kavita khamoshi virodh ki bhasha )   ये खामोशी,  सहमति नहीं विरोध की भाषा है! यह तो मजबूरी है,  सहमति में बदल जाना  किसी तकलीफ देय  घटना के...