Admin

Admin
6389 POSTS 3 COMMENTS

नशा | Nasha kavita

"नशा"  ( Nasha )-->हर काम का अपना "नशा"है |1.हर पल नशे में है दुनियां, कोई तो मिले जो होश मे हो | नशे में डूबे हैं...

दीबार | Deewar kavita

 "दीबार"  ( Deewar )  -->मत बनने दो रिस्तों में "दीबार" ||1.अगर खडी हो घर-आंगन, एक ओट समझ मे आती है | छोटी और बड़ी मिलकर एक, सुंदर...

कनक | Kanak Hindi kavita

"कनक" ( Kanak  )   ✨ -->कनक कनक पर कौन सा..... ✨ 1.एक कनक मे मादकता, एक मे होए अमीरी | एक कनक मे मद चढे, एक मे जाए गरीबी | नाम...

फूल | Phool kavita

 फूल ( Phool kavita )  --> ये फूलों का संसार, ये फूलों का संसार ||1.फूलों का संसार बेहद रंगीन, सुंदर सुगंधित रहता है | फूलों के साथ...

चन्दन | Chandan kavita

 "चन्दन" ( Chandan : Kavita )-->"चन्दन तुम बन जाओ"......||1.कहने को लकडी है, ठंडक समेटे है | भीनी सी खुशबू है, विष-धर लपेटे है | घिंस के जब...

आईना | Aaina kavita

"आईना" ( Aaina : kavita )--> सच्चाई का प्रतीक है "आईना" ||1.सब कहते हैं सच्चा-झूँठा, किस पर यकीन करें | देख कर चेहरा बातें करते, किस...

हम पर कोई नक़ाब थोड़ी है | Urdu ghazal by Nepali...

 हम पर कोई नक़ाब थोड़ी है  ( Hum par koi naqab thodi hai )   ❄️ आइना खुदको क्या समझता है नक़ाब वाला चेहरा दिखाता है तो दिखाने दो हम...

आसमान | Aasman kavita

 "आसमान" ( Aasman : Hindi poem )  --> आसमान सा बनकर देखो ||1.आसमान कितना प्यारा, फैला चारो ओर है | रंग-बिरंगी छटा बटोरे, मेघों का पुरजोर है...

धरा | Dhara kavita

 "धरा"  ( Dhara )    "धरा"नहीं, तो क्या"धरा" ||धरती-भूमि-धरा-प्रथ्वी-हम सब का अभिमान है | बसते हैं नर-जीव-जन्तु जो, उन सब पर बरदान है | प्रथम गोद माँ की होती...

सुनहरी सुबह  | Kavita

    सुनहरी सुबह   ( Sunahri subah )    सुनहरी सुबह नि:स्वार्थ भाव से प्रतिदिन सुबह आती है ||आँख बंद थी अभी, खोए थे मीठे सपनों में | कुछ...