कोई मिले तो सही मुझे भी दिल लगाना है
कोई मिले तो सही मुझे भी दिल लगाना है

🍁 दिल लगाना है मुझे भी 🍁

🌸

अमीर खुसरो से लेकर गुलज़ार, ग़ालिब है दीवाना

बचूंगा भला मैं कैसे इस मुहब्बत से

🌸

दिल लगाना है मुझे भी

दिलकशी जानना है

जान – ए- बहार के वक़्त

रश्क-ए-चमन में मुझे भी यारी का खुसबू लुटाना है

🌸

कोई मिले तो सही

मुझे भी दिल लगाना है

🌸

खुद की क़त्ल की तैयारी कर रहा हूँ मेरे यार

मुहब्बत करना है, और करना भी क्या है मेरे यार

🌸

ज़ोहरा-जबीं, तेरे नूर से

अपनी नफ़्स को सजाना है

भले देर से मिलो
मगर तुम्हे कसकर गले लगाना है

🌸

सर भारी है

और बदन को भी पाक होनी है

जिस रोज इश्क़-ए-मान, तुम मिलोगी

उसी रोज ये उल्फत छोड़ देनी है

🌸

मेहबुब तुम मिलो तो सही

में बचूंगा भला मुहब्बत से कैसे

दिलरुबा तुम आओ
क़ायनात की रक़्स में तुम्हारी भी तो नज़र उतारनी है

🌸

शायर: स्वामी ध्यान अनंता

 

यह भी पढ़ें : हम पर कोई नक़ाब थोड़ी है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here