मुसाफ़िराना है

( Musafirana Hai )

हम ग़रीबों का यह फ़साना है
हर क़दम ही मुसाफ़िराना है

यह जो अपना ग़रीबख़ाना है
हमको मिलकर इसे सजाना है

कितना पुरकैफ़ यह ज़माना है
रूठना और फिर मनाना है

बीबी बच्चों की परवरिश के लिए
जाके परदेश भी कमाना है

सारे घर के ही ख़्वाब हैं इसमें
यह जो छोटा सा आशियाना है

ज़ीस्त लेकर वहाँ ही जायेगी
जिस जगह उसका आबोदाना है

एक दूजे के साथ से हमको
मुश्किलों को सरल बनाना है

ज़िंदगी की कड़ी है धूप सही
खैर है सर पे शामियाना है

आज भी गुफ्तगू में ऐ सागर
उसका भाता मुझे लजाना है

Vinay

कवि व शायर: विनय साग़र जायसवाल बरेली
846, शाहबाद, गोंदनी चौक
बरेली 243003

यह भी पढ़ें:-

हक़दार नहीं थे | Ghazal Haqdaar Nahi The

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here