गुडडू के नाम पत्र
गुडडू के नाम पत्र

गुडडू के नाम पत्र

मेरा और तुम्हारा साथ करीब 2 वर्ष पुराना है। मुझे याद है जब तुम पहली रात को मुझे मिली थी। तुम पहली नजर में ही मुझे पसंद आ गयी थी। यद्यपि तुम संवेदनशील और आत्मनिर्भर हो; नवम्बर तो तुम झेल जाती हो परंतु दिसम्बर की हाड़ कंपा देने वाली ठंड में तुम भी हाथ खड़े कर देती हो।

तब मुझे मजबूरन तुम्हारी छोटी बहन पिंकू को साथ लाना पड़ता है।तुम दोनों साथ मे आकर ठिठुरन भरी सर्दियों में मेरा कवच बनती हो, मुझे गर्माहट देती हो और मुझे इस लायक बनाती हो कि अगली सुबह मैं फिर से राइटिंग टेबल के सामने कापी-पेन थाम बैठ सकूं।गुड्डू!!

पिछले वर्ष तुम्हारे कपड़े मुझे बदलवाने पड़े थे वह टेरीकॉट नामक एक प्लास्टिक परिवार से बने थे जो रात भर गर्म ही नही होते थे।गुडडू!! इसका सीधा असर मुझ पर पड़ता था, मैं रात भर ठिठुरता था।

मैंने काफी दिनों तक इसकी अनदेखी की लेकिन पिछले साल के निर्दयी दिसंबर ने मुझे तुम्हारे कपड़े बदलने पर मजबूर कर दिया।तुमसे बिना पूछे मैंने तुम्हारे कपड़े खुद की सुरक्षा के लिए बदल दिए।

कितना स्वार्थी हूँ मैं है न!! लेकिन क्या करता यदि न बदलता तो हाड़ कंपा देने वाला वह दिसम्बर मुझे लील जाता।मुझे विश्वास है कि तुम्हे बुरा नही लगा होगा। अब तुम्हारे नए वस्त्र सूती और अधिक गर्माहट भरे हैं।

गुडडू!! एक बात पूछूं बुरा तो नही मानोगी? पिंकू को साथ मे ले आने से तुम्हे बुरा तो नही लगा? तुम्हे मेरी कसम है सच-सच बताना। मैं बिल्कुल भी बुरा नही मानूंगा। मैं जानता हूँ तुम मेरी मजबूरी समझती होगी।

गुड्डू!! मैं वादा करता हूँ कि पिंकू को तुम्हारी जगह कभी नही लेने दूंगा। वह सौत ही रहेगी।भले ही उसका इस्तेमाल मैं पूरे वर्ष करता हूँ लेकिन मेरे दिल मे तुम ही रहोगी। तुमने मुझे गर्माहट भरी रातें दी हैं।

तुम दोनों का साथ बस 2 ही महीने होता है यद्यपि वह तुमसे पतली और आकर्षक है परंतु गलन भरी सर्दियों में जो सुकून मुझे तुम्हारे साथ मिलता है वह पिंकू के साथ कभी नही मिल सकता।गुडडू!! तुम्हे पता है मैंने तुम दोनों को ओढ़ते समय तुमको अपने सबसे करीब रखा है। तुम मेरी पारो हो जबकि पिंकू चंद्रमुखी।

गुडडू!! चंद्रमुखी चाहे जितनी आकर्षक हो पारो की जगह कभी नही ले सकती।

अच्छा गुडडू!!अब बस करता हूँ,पत्र लम्बा हो गया।बाकी बातें रात को करूंगा।

Love you Guddu!!!

सिर्फ तुम्हारा……

 

#गुड्डू=बड़ी रजाई

#पिंकू=छोटी,गुलाबी रजाई

🌳

यह भी पढ़ें : 

क्या रावण मर गया है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here