मरघट की ओर
मरघट की ओर

मरघट की ओर

( व्यंग्य रचना )

बज उठा,
चुनावी बिगुल!
निकल पड़े हैं मदारी,
खेल दिखाने!
बहलाने, फुसलाने,
रिझाने, बहकाने!
उज्जवल ——
अपना भाग्य बनाने!
जनता का दु:ख -दर्द,
जानकर भी,
बनते हैं जो अनजाने!
आओ दु:खियारों,
चलो -चलें,
मरघट की ओर,
इन मक्कारों की,
मिलकर चिता जलाने!

Jameel Ansari

जमील अंसारी
हिन्दी, मराठी, उर्दू कवि
हास्य व्यंग्य शिल्पी
कामठी, नागपुर

यह भी पढ़ें :-

बापू का हिन्दुस्तान | व्यंग्य रचना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here