जिन्दगी का सफर
जिन्दगी का सफर

🐾 “जिन्दगी का सफर” 🐾

सफर जिन्दगी का कठिन है, “नामुमकिन”नहीं ||
राह-नई मंजिल-नई, हम भी नए जमाने में |
जाने कब कहाँ पहुँचेंगे, जाने किस ठिकाने में |
जब से जीना सीखा हमने, दिन-रात चुनौती रहती है |
सफर हमारा जारी है, स्वीकर हर चुनौती रहती है |
सफर जिन्दगी का कठिन है, “नामुमकिन”नहीं ||
जिन्दगी के इस सफर में, अनेकों मुश्किल आती हैं |
डट कर सामना करने पर, हल भी होती जाती हैं |
जो होती जटिल समस्या, तब मन घबडा जाता है |
उठा-पटक कर ठीक करें, तो बडा सुकून आता है |
सफर जिन्दगी का कठिन है, “नामुमकिन”नहीं ||
कोई घबराता-कोई सरमाता, कोई राह बदलता है |
कोई असफल हो त्यागता जीवन, तब मन दहलता है |
सोचे जान गंवा कर मेरी, मुश्किलें खतम हो जाएंगी |
तुम तो चले जाओगे पर, घर में तकलीफें बढ जाएंगी |
सफर जिन्दगी का कठिन है, “नामुमकिन”नहीं ||
किस्मत् से मिलता है जीवन, वो भी मानव काया मे |
सब कुछ कर सकता है, फिर भी पीछे भागे माया मे |
भाग्य से राई घटे न तिल बढे, काहे को मनवा ईश करे |
जिसे जहाँ जितना मिला है, उसी मे जीवन व्यतीत करे |
सफर जिन्दगी का कठिन है, “नामुमकिन”नहीं ||

🐾

कवि :  सुदीश भारतवासी

 

यह भी पढ़ें : 🌼   सुनहरी सुबह  🌼

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here