Kavita Taj Mahal
Kavita Taj Mahal

ताजमहल

( Taj Mahal )

बेगम मुमताज की याद में ताजमहल बनवाया।
शाहजहां बादशाह ने दुनिया को प्रेम दिखाया।

 

आगरा में आकर देखो संगमरमर का महल।
कलाकृतियां बेमिसाल प्रसिद्ध हो गया शहर।

 

प्रेम का प्रतीक हो गया सुंदर सा ताजमहल।
पर्यटक स्थल बना जवां दिलों का कौतूहल।

 

सुंदर से नजारे सारे महकती फिजायें सब।
गुलशन से गुलजार होकर बहती हवायें तब।

 

दिलरूबा से मोहब्बतें प्यार का इजहार कर लो।
ताजमहल प्रेम की यादें हृदय में प्यार भर लो।

 ?

कवि : रमाकांत सोनी सुदर्शन

नवलगढ़ जिला झुंझुनू

( राजस्थान )

यह भी पढ़ें :-

 

चले आओ मेरे गांव में | Geet chale aao mere gaon mein

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here