Poem on Hindi
Poem on Hindi

हिन्दी

( Hindi )

 

हिन्दी के सम्मान मे मित्रो ,लिख लो कह लो आज ।
एक वर्ष के बाद पुनः फिर, होगी इस पर बात ॥
**
बडे`बडे सम्मेलन होगे, ढोल मंझीरे साथ ।
बडे-बडे बैनर पर होगा,हिन्दी दिवस है आज॥
**
बोली जाती बहुत ही बोली,भारत के सम्मान मे ।
पर हिन्दी को नही मिला जो,दिखता है अब आज मे॥
**
नीति- नियन्ता वो भारत के,किया है ऐसा काम ।
अंग्रेजी को शौर्य दिया अरू,हिन्दी सिसके आज॥
**
मातृभूमि और जन भाषा का,ना हो गर सम्मान।
शेर कहे कैसे समझेगे ,नवपीढी ये बात ॥
**
हिन्दी के सम्मान मे मित्रो ,लिख लो कह लो आज ।
एक वर्ष के बाद पुनः फिर,होगी इस पर बात ॥
**
बडे`बडे सम्मेलन होगे, ढोल मंझीरे साथ ।
बडे-बडे बैनर पर होगा,हिन्दी दिवस है आज॥
**
बोली जाती बहुत ही बोली, भारत के सम्मान मे ।
पर हिन्दी को नही मिला जो,दिखता है अब आज मे॥
**
नीति- नियन्ता वो भारत के,किया है ऐसा काम ।
अंग्रेजी को शौर्य दिया अरू,हिन्दी सिसके आज॥
**
मातृभूमि और जन भाषा का,ना हो गर सम्मान।
शेर कहे कैसे समझेगे ,नवपीढी ये बात ॥

 

✍?

कवि :  शेर सिंह हुंकार

देवरिया ( उत्तर प्रदेश )

यह भी पढ़ें : –

नशा जुनून इश्क है तुमसे | Ghazal ishq hai tum se

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here