Watan shayari
Watan shayari

वतन

( Watan )

 

इश्क,आशिकी,महोब्बत , जुनूं ,
तुझसा ही वतन, वतन सा ही है तू….

 

कहाँ वो अमन, कहाँ मिले सुकूं
न सरहदों के इधर , न सरहदों से दूर….

 

आज़ाद हुये मगर गुलाम अभी तलक
बात मज़हबों की , इंसानियत से दूर….

 

खून तो खौलता है, बहता भी है खून
मगर लहू ही लहू की अहमियत से है दूर….

 

वतनपरस्ती पर तू चाहे लाख हो मजबूर
पर ऐ कलम,फिरकापरस्ती से रहना बहुत दूर….

?

Suneet Sood Grover

लेखिका :- Suneet Sood Grover

अमृतसर ( पंजाब )

यह भी पढ़ें :-

हमने जाते हुए रास्ते को मुड़कर देखा है | Suneet Shayari

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here