यूं न झूठा हां सनम वादा करो
यूं न झूठा हां सनम वादा करो

यूं न झूठा हां सनम वादा करो

 

( Yoon Na Jhootha Haan Sanam Wada Karo )

 

 

यूं न झूठा हां सनम वादा करो!

जो भी वादा प्यार में सच्चा करो

 

दो वफ़ाये उम्रभर के ही लिए

प्यार में ही  यूं नहीं  धोखा करो

 

वरना राहों  मे अंधेरे होते है

चाँद सूरत यूं नहीं  मोड़ा करो

 

यूं नहीं आँखें करो मुझसे ख़फ़ा

ए सनम बस प्यार से देखा करो

 

छोड़ो ये नाराज़गी दिल से सनम

रोज़ मिलनें को ही घर आया करो

 

गुफ़्तगू करके झूठे वादो की ही

इस तरह  से दिल नहीं तोड़ा करो

 

तल्ख़ बातें से मिलेगा क्या भला

आई लव यूं आज़म से बोला करो

?

शायर: आज़म नैय्यर

(सहारनपुर )

यह भी पढ़ें : – 

love Hindi Poetry | Romantic Poetry -आपकी याद आयी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here