आपकी याद आयी
आपकी याद आयी

आपकी याद आयी

( Aapki Yaad Aayee )

 

 

टूटी दिल की तुम्हारी आशिक़ी याद आयी

आज तो इस क़दर ये आपकी याद आयी

 

भायी थी जो कभी मेरी आंखों को नगर में

गांव में आकर मुझको वो दिलकशी याद आयी

 

जो सुनी थी कभी उनके मुँह से प्यार की ही

आज उनकी मुझे वो शाइरी याद आयी

 

जिंदगी कट रही है रोज़ ग़म में यहां जब

आज दिल को बहुत ही ख़ुशी याद आयी

 

प्यार के गीत गाये साथ जिसके है जहां पे

हो गयी जो राहें वो अजनबी याद आयी

 

दें रही थी सांसों में प्यार की ख़ुशबू मेरी

रात भर वो मुझे वो ही कली याद आयी

 

अजनबी हो गयी है जो सदा के लिए ही

आज आज़म बहुत वो दोस्ती याद आयी

 

?

शायर: आज़म नैय्यर

(सहारनपुर )

यह भी पढ़ें : – 

दूरियां कितनी रक्खी प्यार हो ही गया

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here