ज़िन्दगी का कोई बसेरा
ज़िन्दगी का कोई बसेरा

ज़िन्दगी का कोई बसेरा

🍀

ज़िन्दगी का कोई बसेरा ढून्ढ रहा हूँ

में तो बस ज़ीस्त का एक इशारा ढून्ढ रहा हूँ

🍀

एक सुर्खियों में बंधा हुआ

शाम का तरन्नुम समाये सवेरा ढून्ढ रहा हूँ

🍀

उजालो से अब दिल उक्ता गया है

में दिन में चाँद, सितारा ढून्ढ रहा हूँ

🍀

ये हयात नहीं आसान इतना

इसका कोई गुज़ारा ढून्ढ रहा हूँ

🍀

दीवाने ‘अनंत’ कहाँ है इस सफर में

वाइज़ो से कुछ मशवरा ढून्ढ रहा हूँ

✒️

शायर: स्वामी ध्यान अनंता

 

यह भी पढ़ें :  ना शौक़, ना शौक़-ए-जुस्तुजू बाक़ी

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here