शौक़, ना शौक़-ए-जुस्तुजू बाक़ी
शौक़, ना शौक़-ए-जुस्तुजू बाक़ी

ना शौक़, ना शौक़-ए-जुस्तुजू बाक़ी

( Na shoq-na- shoq-e -justaju baki )

 

ना शौक़, ना शौक़-ए-जुस्तुजू बाक़ी

बस दीदार-ए-यार से रहा रु-ब-रु बाक़ी

 

इस क़दर टूट कर नूर-ए-मुजस्सम को चाहना

की रहे ना जिस्म में कोई क़तरा, कोई लहू बाक़ी

 

कट रही है ज़िन्दगी अपनी ही रफ़्तार में

सफर मगर हमारा रहा हु-ब-हु बाक़ी

 

खुदको ढून्ढ रहा हूँ बिखेर के खुद को में

किसके घर में है मेरी ये जुस्तुजू बाक़ी

 

तलाश रहा हूँ में खुदको आइनो में

अब आइनो से राब्ता-ए-रु-ब-रु बाक़ी

 

बदन के शिकस्त से दर-ब-दर हो निकल आया है ‘अनंत’

बचा ना कोई हिस्सा, रहा तो बस खुद से गुफ्तगू बाक़ी

 

शायर: स्वामी ध्यान अनंता

 

यह भी पढ़ें :-

हम जिस्म-ओ-जान से दिल के तलबगार है | Ghazal dil ke talabgar

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here