विश्व कैंसर दिवस | Vishv Cancer Diwas par Kavita

विश्व कैंसर दिवस ( Vishv cancer diwas )    कैंसर से डरकर के तू ना जीवन जीना छोड़ माना यह नाम निराशा का तू आशाओं की दौड़ बीमारी से डरना ना ना...

राह-ए-इश्क | Poem Rah-E-Ishq

राह-ए-इश्क ( Rah-E-Ishq )    उसकी पलकों के ओट से हया टपकती है, फिर भी देखो वो मौज-ए-बहार रखती है। दाना चुगने वाले उड़ते रहते हैं परिन्दे, क्या करे वो...

चंद लम्हों से जिंदगी चुरा लाए हैं। Poem Chand lamhon

चंद लम्हों से जिंदगी चुरा लाए हैं ( Chand lamhon se zindagi chura laye hain )    हम बहारों से खुशबू जरा लाए हैं। चंद लम्हों से जिंदगी...

नही है कर्ण जैसा कोई दानी | Karn par Kavita

नही है कर्ण जैसा कोई दानी ( Nahi hai karn jaisa koi dani )   जगत में कई है बलवान और महा-ज्ञानी, लेकिन नही है इस कर्ण जैसा...

मेरा प्यारा भारत देश | Bharat Desh par Kavita

मेरा प्यारा भारत देश ( Mera pyara bharat desh )    मेरा प्यारा भारत देश सभी देशों मे यह नम्बर एक, मिलकर रहतें हमसब एक इसमें नहीं है...

उनके आने का इन्तिज़ार रहा | Intezar Shayari

उनके आने का इन्तिज़ार रहा ( Unke aane ka intezar raha )    उनके आने का इन्तिज़ार रहा, हर समय मोसम-ए-बहार रहा। दीदाये-दिल में वो रहे मेरे, उम्र भर जिनको...

न आना तुम कभी अब इस गली में | Reema Pandey...

न आना तुम कभी अब इस गली में ( Na aana tum kabhi ab is gali mein )    न आना तुम कभी अब इस गली में रखा...

साथ हरदम निभाती रही ज़िन्दगी | Shayari on Zindagi

साथ हरदम निभाती रही ज़िन्दगी ( Saath har dam nibhati rahi zindagi )    साथ हरदम निभाती रही ज़िन्दगी आस दिल में जगाती रही ज़िन्दगी जब हुआ दिल परेशान...

बिना सोचे समझे | Kavita Bina Soche Samjhe

बिना सोचे समझे ( Bina soche samjhe )    कहां जा रहे हो किधर को चलें हो बिन सोंचे समझे बढ़े जा रहे हो।   कहीं लक्ष्य से ना भटक तो गये हो...

शतरंज | Shatranj par Kavita

शतरंज ( Shatranj )    भारत देश के पुरानें खेलों में से एक यह शतरंज, जिसकी उत्पत्ति यही हुई जिसे कहते थें चतुरंग। लेख व आलेख मिलेंगे जिसके भारतीय...