अंधकार पीनेवाले | Kavita andhakar peene wale

अंधकार पीनेवाले! ( Andhakar peene wale )    किसी के जख्मों पर कोई नमक छिड़कता है, तो यहाँ मरहम लगाने वाले भी हैं। कोई हवा को रोने के लिए...

मैं उसको ढूँढ रहा हूँ | Poem main usko dhund raha...

मैं उसको ढूँढ रहा हूँ ( Main usko dhund raha hoon )    हम सबकी है वो जान, मेरे प्राणों का वो प्राण , मैं उसको ढूँढ रहा हूँ।   वो...

कोई मोल नही उस वीर का | Kavita koi mol nahi...

कोई मोल नही उस वीर का ( Koi mol nahi us veer ka )     जो औरों के लिए जिएं ज़िन्दगी मुकम्मल है वही, बन जाएं मरहम किसी...

उलझन भरी जिंदगी | Zindagi par chhand

उलझन भरी जिंदगी ( Uljhan bhari zindagi )    संघर्षों से भरी जिंदगी, उलझन सी जिंदगी। हौसला बुलंद कर, नेह बरसाइए। राहें कठिन हो चाहे, पथ आंधी तूफां आए। लक्ष्य साध गीत प्यारा, तराना...

बाबा साहब आंबेडकर | Hindi poem on Baba Saheb Ambedkar

बाबा साहब आंबेडकर ! ( Baba Saheb Ambedkar )      सोये हुए दलितों को  बाबा साहब ने जगाया है, हर  झोंपड़ी  में  एक  नई  रोशनी  जलाया  है। किया  संघर्ष ...

“सैनिक की कलम से” पुस्तक का हुआ विमोचन

"सैनिक की कलम से" पुस्तक का हुआ विमोचन   छत्तीसगढ़ बीजापुर के भैरमगढ़ फुण्डरी में तैनात केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की 165 वी वाहिनी के मुख्यालय...

वो महामानव | Dr. Bhim Rao Ambedkar par kavita

वो महामानव  ( Wo mahamanav )      वन्दन करतें बाबा आपकों हम सब बारम्बार, दिलाया आपनें ही हमें मौलिकता अधिकार। समाजिक शैक्षणिक और आर्थिक अधिकार, समान राजनीति और नागरिक के...

हम है गुदड़ी के लाल | Kavita gudari ke laal

हम है गुदड़ी के लाल ( Hum hai gudari ke laal )     कभी न कभी तो आएंंगे हमारे भी अच्छे दिन, सफलताएं क़दम चूमेगी हमारा भी एक...

बात बात में अलगाव की | Kavita baat baat mein algav...

बात बात में अलगाव की ( Baat baat mein algav ki )  #JNU बात बात में अलगाव की भाषा बोल रहे हो तुम। शिक्षा के मंदिर में...

सूर्योदय | Suryoday par kavita

सूर्योदय ( Suryoday )   पूरब में छा गई लाली धूप खिली है मतवाली। रश्मि रथ पर हो सवार सूर्योदय छटा निराली।   पंछी कलरव गीत गाते भंवरे मधुबन लहरी...