होम ब्लॉग पेज 2

अब गुलों की बहार हो जाये | Bahar shayari

अब गुलों की बहार हो जाये ( Ab gulon ki bahar ho jaye )     अब गुलों की बहार हो जाये? टूटे  दिल को क़रार हो जाये   तू...

समर्पण के बोल कह सकते नहीं | Geet samarpan ke bol

समर्पण के बोल कह सकते नहीं !! ( Samarpan ke bol kah sakate nahin )   अस्त्र लाये कोईभी दुश्मनमगर,समर्पण के बोल कह सकते नहीं !! देश का...

“अंतरराष्ट्रीय साहित्य संगम” की ओर से प्रेमचंद जयंती

भारतीय जनमानस का चितेरा लोक कथाकार प्रेमचंद की जयंती के अवसर पर "अंतरराष्ट्रीय साहित्य संगम" (साहित्यिक सांस्कृतिक संस्था) के तत्वावधान में संस्था के अध्यक्ष...

कुर्सी पर हक | Poem kursi par haq

कुर्सी पर हक ( Kursi par haq )   दिल जिगर को तोल रहे, खुद को बाजीगर कहते। जनभावों संग खेल रहे हैं, मन में खोट पार्ले रहते।   वादों...

झुंझुनूं के 15 सहित 75 प्रतिभाओं का हुआ सम्मान

नवलगढ़।स्वर्णकार समाज के आदि पुरूष महाराजा अजमीढ़ देव मन्दिर के स्थापना दिवस पर 75 प्रतिभाओं का सम्मान किया गया जिसमें झुंझुनूं जिले के 15...

तू प्यार की हमेशा दिल में चाह कर | Pyar wali...

तू प्यार की हमेशा दिल में चाह कर ? ( Tu pyar ki hamesha dil mein chah kar )     तू प्यार की हमेशा दिल में चाह...

मित्र | Kavita mitra

मित्र ( Mitra )   लम्हे सुहाने हो ना हो,चाहत की बातें हो ना हो। प्यार हमेशा दिल में रहेगा,चाहे मुलाकात हो ना हो।   खुशियों में गम़ मे भी...

हुस्न के खिलते से चेहरे | Husn shayari

हुस्न के खिलते से चेहरे ( Husn ke khilte se chehre )     हुस्न के खिलते से चेहरे के लिए ! फूल भेजे ख़ूब रिश्तें के लिए   प्यार की...

मेरा परिचय | Mera parichay | Kavita

मेरा परिचय ( Mera parichay )   मैं अगम अनाम अगोचर हूँ ये श्रृष्टि मेरी ही परछाई   मैं काल पुरुष मैं युग द्रष्टा मानव की करता अगुआई   मेरी भृकुटि स्पंदन से आती...

शिव | Shiva | Chhand

शिव ( Shiva ) मनहरण घनाक्षरी   नाग वासुकी लपेटे, गले सर्प की माला है। त्रिनेत्र त्रिशूलधारी, शंकर मनाइए।   डमरु कर में लिए, नटराज नृत्य करें। चंद्रमा शीश पे सोहे, हर हर गाइये।   जटा गंगधारा बहे, कैलाश...