आज कोई याद चेहरा आ गया!

आज कोई याद चेहरा आ गया!

 

आज कोई याद चेहरा आ गया!

दिल रुलाने आज मेरा आ गया

 

खो गया रस्ता ख़ुशी का जीवन से

दुख भरा जीवन में रस्ता आ गया

 

जो नहीं था वो वफ़ाओ से भरा

दिल दुखाने एक रिश्ता आ गया

 

वो भुला मुझको नहीं परदेश में

आज देखो ख़त सनम का आ गया

 

भूलकर दिल से सभी वो दुश्मनी

आज घर को मेरा अपना आ गया

 

जो नहीं आज़म हुआ मेरा सनम

रात उसका  यार सपना आ गया

 

 

✏

शायर: आज़म नैय्यर

(सहारनपुर )

यह भी पढ़ें : 

वो चाँद के जैसा मुखड़ा पसंद है !

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here