Home कविताएँ

कविताएँ

नारी

नारी ( Nari Kavita )   नर से धीर है नारी ... घर में दबी बेचारी , कभी बेटी कभी बहू बने , कभी सास बन खूब तने, एक ही जीवन...

रहे तन-मन सदा अपना वतन के वास्ते जग में

रहे तन-मन सदा अपना वतन के वास्ते जग में ( Rahe Tan-Man Sada Apana Watan Ke Waste Jag Mein )   रहे  तन-मन  सदा अपनावतन के वास्ते...

भारत का गौरव

भारत का गौरव ( Bharat Ka Gaurav )     राम तेरे आर्याव्रत अब, शस्त्र नही ना शास्त्र दिखे। धर्म सनातन विघटित होकर,मात्र अंहिसा जाप करे।   शस्त्रों की पूजा करते...

नार परायी

नार परायी ( Naar Parai )     मिले हम मिले नही पर, मन से साथ रहेगे हम। नदी के दो किनारे से पर, मन से साथ रहेगे हम। मिलन...

सहारा

सहारा (Sahara )   सहारा किसका ढूँढ रहा है कि जब, श्रीनाथ है नाव खेवईया। रख उन पर विश्वास भवों से, वो ही पार लगईया॥ सहारा किसका…. * कर्म रथी बन धर्म पे...

डॉ. अलका अरोडा के दोहे

डॉ. अलका अरोडा के दोहे ( Dr. Alka Arora Ke Dohe ) ******   १)   काँटे बोना छोड़ दो, चलो प्रीत की राह। सुख पाओगे विश्व में, मिट जाए हर...

प्रतिघात

प्रतिघात ( Pratighaat )   लिख दिया मस्तक पटल पर, वाद का प्रतिवाद होगा। बन्द  दरवाजे  के  पीछे, अब  ना  कुछ संवाद  होगा। जो भी कहना है  मुझे  कह...

ये आंसू के अक्षर हैं दिखाई नहीं देते

ये आंसू के अक्षर हैं दिखाई नहीं देते ( Ye Aansoo Ke Akshar Hai Dikhai Nahi Dete )     देते हैं दर्द मगर दवाई नहीं देते। एक बार...

बारिशे मेरे आँगन से होकर जब भी गुजरी

बारिशे मेरे आँगन से होकर जब भी गुजरी ( Baarishe Mere Aangan Se Hokar Jab Bhi Gujri )   🌹🌹 तेरे शहर मे आज बेसबब आई हूँ साथ मुकद्दर...

मालिक का दरबार

मालिक का दरबार ( Malik Ka Darbar )   यह सारी दुनिया ही उस मालिक का दरबार हो जाए, अगर आदमी को आदमी से सच्चा प्यार हो जाए ।   जाति-मज़हब...