Home कविताएँ

कविताएँ

कैसी बीत गए तुम्हारे साथ | Romantic kavita

कैसी बीत गए तुम्हारे साथ ( Kaisi beet gaye tumhare saath )   कैसी बीत गए तुम्हारे साथ । कितने पल कितने साल। सच कहूं वह बीते दिन थे...

हमारे पूर्वज | Hamare Purvaj Kavita

हमारे पूर्वज ( Hamare purvaj )   परिवार  की  नींव  है पूर्वज, संस्कारों के दाता है। वटवृक्ष की छांव सलोनी, बगिया को महकाता है।   सुख समृद्धि जिनके दम...

बिटिया खुश रहना ससुराल | Beti ke vidai par kavita

बिटिया, खुश रहना ससुराल ( Bitiya, khush rahna sasural )   बिटिया खुश रहना ससुराल रहना सदा सुखी खुशहाल खुशियों से झोली भर जाए सुख आनंद सदा तू पाये महके जीवन...

रात्रिकाल | Kavita

रात्रिकाल ( Raatrikaal )   दिन भर करते काम जो,अब हो आई शाम। थके थके से चल रहे, छोड़के सारा काम।।   सूरज  ढलने  से  हुई, ठंडी  तपती  धूप। रात सुहानी...

कुर्सी की लड़ाई | Political Kavita

कुर्सी की लड़ाई ( Kursi ki ladai )   बड़े-बड़े दिग्गज उतरेंगे, महासमर चुनाव में। कुर्सी की खातिर नेताजी, होंगे खड़े कतार में।   राजनीति की सेंके रोटियां, सत्ता के...

Desh Prem Kavita | है हंसी कितना ये वतन मेरा

है हंसी कितना ये वतन मेरा ( Hai hasi kitna ye watan mera )     है हंसी कितना ये वतन मेरा फ़ूलों से ये खिले चमन मेरा   है ख़्वाहिश...

झोपड़ी में बसते हैं भगवान | Kavita

झोपड़ी में बसते हैं भगवान ( Jhopdi mein baste hain bhagwan )   मेहनत मजदूरी जो करते, सदा चलते सीना तान। अटल रह सच्चाई पर, सबका करे आदर...

श्राद्ध पक्ष | Shradh Paksha Kavita

श्राद्ध पक्ष ( Shradh Paksh )   पुरखों  को  सम्मान  दें,  हैं  उनके ही अंश। तर्पण कर निज भाव से, फले आपका वंश।।   बदला  सारा  ढंग  है,  भूल  गए ...

नई राह | Hindi poem motivational

नई राह ( Nai Rah : Hindi poem motivational )   उत्साह उमंगे जीवन में, जीने की राह दिखाते है। मेहनत लगन मानव की, नित राहें नई बनाते...

मोहब्बत उसे भी थी | Prem Kavita

मोहब्बत उसे भी थी ( Mohabbat use bhi thi )   हां मोहब्बत उसे भी थी, वो प्यार का सागर सारा। उर तरंगे ले हिलोरे, अविरल बहती...