चिड़ियों से सीखें | Chidiyon se Sikhen

चिड़ियों से सीखें चिडियों से सीखे हम वैज्ञानिक युग के विक्षिप्त विकसित कुत्सित मानव प्रेम-प्रीतिकी रीति गीत पेड़ की डाली की महकती चहकती दुनिया बेबस,बंटे,झुलसे,त्रस्त मानव को मुक्ति-मंत्र का संदेश जो हमें देते बहुजन...

मैं आपकी | Kavita Main Aap ki

मैं आपकी ( Main Aap ki ) जनम -जनम का प्रीति जुड़ा है । सर्वस्व आपसे पूरा है ।। धर्म, हे प्रभु! आप निभाइए। सुमा के भी नाथ...

मैं गंगा हूं | Kavita Main Ganga Hoon

मैं गंगा हूं ( Main Ganga Hoon ) हिमालय की गोद में बस्ती हूं काटकर पहाड़ों को अपने साहस से सरल भाव में बहती हूं ऐसी मै गंगा...

अतुल्य भारत | Kavita Atulya Bharat

अतुल्य भारत ( Atulya Bharat ) अतुल्य भारत, हिय प्रियल छवि सर्व धर्म समभाव छटा, स्नेह प्रेम भाईचारा अनंत । विविधता अंतर एकता, जीवन शैली संस्कार अत्यंत । खेती संग...

बड़प्पन से बड़े होते हैं

बड़प्पन से बड़े होते हैं जो बड़े कद में हो गए ऊंचे ऊंचे पद पर हो गए। अंतर्मन विकार भरा हो तो स्वार्थ में जो खो...

कब बरसी सवनवाँ | कजरी

कब बरसी सवनवाँ टप-टप चुवेला पसीनवाँ, हाय, कब बरसी सवनवाँ। लुहिया के चलले से सूखेला कजरवा, ऊपरा से नीचवाँ कब बरसी बदरवा। गरमी से आवें न पजरवाँ, हाय, कब बरसी...

मायका | Kavita Maayka

मायका ( Maayka ) मायके का तो रगँ ही अलग है हर दिन एक मेला सा लगता है रिश्ते-नाते दोस्त पडोसी हर कोई मिलने आता है पल भर मे...

गुरुदीन वर्मा की कविताएं | Gurudeen Verma Hindi Poetry

हमारे बिना तुम जी नहीं सकोगे हमारे बिना तुम, जी नहीं सकोगे। हमें याद कल को, बहुत करोगे।। हमारे बिना तुम-------------।। होगी जब भी इच्छा, हंसने की तेरी। रजा...

गणाधिपति गुरुदेव श्री तुलसी के 28 वें महाप्रयाण दिवस

ओम् गुरुदेवाय नमः ! आज से 27 वर्ष पूर्व तेरापंथ धर्म संघ के नवम अधिशास्ता , अणुव्रत को जन - जन तक पहुँचाने वाले आचार्य...

पिता का महत्व | Kavita Pita ka Mahatva

पिता का महत्व ( Pita ka Mahatva ) माता होती है धरती सम, तो पितु होते हैं आसमान। माता देती है हमें ठौर, तो पितु करते छाया प्रदान।। अंदर...